हिन्दू राष्ट्र के प्रणेताओं में शत्रु तथा मित्र की सही पहचान होनी आवश्यक है

हिन्दू राष्ट्र के संदर्भ में मन के आँगन में तैरते कुछ सोच  

रविवार 5 अगस्त 2012 भारतीय समय 15-51
हिन्दू राष्ट्र के प्रणेताओं में शत्रु तथा मित्र की सही पहचान होनी आवश्यक है। शत्रु के प्रति मित्रवत व्यवहार करने की मूर्खता कदापि नहीं करनी चाहिए। हमारा कोई भी कार्य शत्रु को आर्थिक, राजनैतिक, अथवा किसी अन्य रूप से लाभान्वित करे यह हमारे हित में नहीं।

उदाहरण -
चीन तथा पाकिस्तान ने सदा से हमारे साथ शत्रुवत व्यवहार किया है।
चीन का सामान अपने यहाँ आयात कर उन्हें आर्थिक रूप से अधिक सक्षम बनाना, इत्यादि।
पाकिस्तान के साथ समझौता एक्सप्रेस चालू करना, उनके कलाकारों को हमारे यहाँ बुलाना, उन्हें इस बात का मौका देना कि वे हमारी अंदरूनी खबरों को ले जायें, यहाँ के मुसलमानों को बरगलायें तथा अपनी गंदी संस्कृति की छाप हम पर छोड़ते हुए हमारा धन पारितोषिक स्वरूप अपने वतन ले जायें, हमारे यहाँ छुप-छुपा कर बँटवारे के विष बोते जायें।

2

दोगले राष्ट्रों के साथ दूरी बनाये रखना तथा उनपर कभी भरोसा न करना

उदाहरण -
अमेरिका जो दिखाता हमसे दोस्ती पर निभाता पाकिस्तान से, सो भी एक बार नहीं बल्कि बार-बार लगातार

 

Home | हिन्दी मराठी ગુજરાતી कन्नड़About me | Readers' Feedback | Books | Buy Books | Articles | How To | Miscellany 
View Yashodharma .'s profile on LinkedIn